Breaking News

प्रधानमंत्री जन धन योजना के तहत आ सकता है आपका पुराना बैंक खाता, जानें- इसके लिए क्या करना होगा

pradhan-mantri-jan-dhan-yojana-know-how-you-can-transfer-your-old-account-under-this-scheme


कोरोना संकट से निपटने के लिए हुए लॉकडाउन के बीच सरकार ने 20.6 करोड़ महिलाओं के जन धन खातों में तीन महीने तक 500 रुपये की रकम ट्रांसफर करने का फैसला लिया है। कहा यह भी जा रहा है कि सरकार की ओर से ऐसे जन धन खाताधारकों को भी राहत दी जा सकती है, जिनके यहां महिलाओं का खाता नहीं है। ऐसे में इस तरह के किसी फायदे के लिए जन धन खाता खुलवाने से बेहतर यह होगा कि यदि आपके पास पहले से ही कोई अकाउंट मौजूद है तो उसे ही इस स्कीम में ट्रांसफर करा लिया जाए। आइए जानते हैं क्या है इसकी प्रक्रिया…
बैंक जाकर सिर्फ एक फॉर्म भरना होगा:

यदि आपका पहले से ही बैंक में खाता है तो फिर उसे जन धन योजना के तहत ट्रांसफर कराना बेहद आसान है। इसके लिए आपको बैंक की शाखा में जाकर सिर्फ यह आवेदन करना होगा कि आपको रूपे कार्ड जारी किया जाए। एक फॉर्म भरने पर आपका खाता जन धन योजना के अंतर्गत शामिल कर दिया जाएगा। इसके साथ ही आपको 10,000 रुपये तक के ओवऱड्राफ्ट की सुविधा भी मिल सकेगी। हालांकि इसके लिए यह जरूरी है कि पूर्व में बैंक से लिए किसी लोन को चुकाने में आपने कोई चूक न की हो। बेहतर क्रेडिट हिस्ट्री वाले लोगों को ही यह सुविधा दी जाएगी।

बीमा कवर का फायदा भी मिलेगा:

जन धन योजना के तहत यदि आपका खाता आ जाएगा तो आपको 1 लाख रुपये का दुर्घटना बीमा कवर और 3 लाख रुपये तक का लाइफ इंश्योरेंस कवर भी मिलेगा। इसके लिए आपको अलग से कोई प्रीमियम भी नहीं देनी होगी। यही नहीं किसी भी सरकारी योजना की राशि को हासिल करने के लिहाज से भी यह अकाउंट महत्वपूर्ण साबित होगा। बता दें कि देश में फिलहाल 38 करोड़ के करीब जन धन खाते हैं। देश के हर परिवार को बैंकिंग व्यवस्था को जोड़ने के मकसद के साथ मोदी सरकार ने 15 अगस्त, 2014 को जन धन योजना का ऐलान किया था।

आसान हुआ लाभार्थियों तक मदद पहुंचाना:
जन धन योजना के जरिए एक तरफ लोगों का बैंकिंग सिस्टम से जुड़ना सुनिश्चित हुआ है तो दूसरी तरफ सरकार की ओर से तमाम स्कीमों का पैसा भेजने का काम भी आसान हुआ है। डायरेक्ट बेनिफिट ट्रांसफर के तहत सीधे लोगों के खाते में रकम पहुंच रही है और करप्शन पर लगाम कसने में भी मदद मिली है।

6 comments:

  1. क्या पुराना खाता बदलने के लिए बैंक में जाना जरूरी है ऑनलाइन नहीं खुश सकता लोक डाउन में बैंक में जाना मुश्किल हो रहा है जो पुराने खाते को जनधन में कैसे बदलें इसलिए मेरा निवेदन है केंद्र सरकार से जिन पुराने खातों को चंदन में कोई गरीब बदला ना चाहे तो ऑनलाइन कर दिया जाए मोबाइल से भी जोड़ सकें जय हिंद जय भारत

    ReplyDelete
  2. केंद्र सरकार से मेरा निवेदन है कि जो गरीब है उनका कोई पुराना खाता हो जनधन खाता में जोड़ने के लिए आदेश दिया जाए और वह भी मोबाइल से नेट चला कर ताकि लोग डाउन का भी पालन हो सके और लोग भी मुश्किल घड़ी में सरकार का साथ दे सके जो लोग बीपीएल में है उनका खाता भी जनधन नहीं है तो ऑनलाइन मोबाइल से पुराने खाते को जनधन में जोड़ सकें यह मेरा निवेदन है केंद्र सरकार से कई सारे गरीब लोग बचे हैं जिनके पास जनधन खाता नहीं है अगर उनका पुराने खाते को जनधन में बदलने का आदेश दे दिया जाए ऑनलाइन तो कोई भी गरीब भूखा नहीं सो पाएगा जो भी सरकार फैसला ले मैं सहमत रहूंगा जय हिंद जय भारत माता

    ReplyDelete
  3. आज हमारे देश में जो गरीब है जो मजदूर है उसके पास खाने के लिए पैसा नहीं है सरकार पैसा तो दे रही है खाने को राशन भी दे रही है तो क्या हर किसी गरीब को पैसा मिल रहा है सरकार तो जिनके पास पहले से जनधन खाता है उन्हीं को करीब मान रही है लेकिन मैं पूरे विश्वास के साथ कह सकता हूं बहुत सारे ऐसे लोग है ऐसे गरीब है जिनके पास जनधन खाता नहीं है मसूर की हालत क्या है नहीं तो गांव में काम करने जा सकता है नहीं शहर में काम करने जा सकता है अगर जाएगा तो लोग डाउन का उल्लंघन होगा इसलिए मैं सरकार से रिक्वेस्ट करता हूं कि उन मजदूरों को भी पैसा दिया जाए जिनके पास मजदूर कार्ड नहीं है सरकार को कोई ऐसी घोषणा करनी चाहिए जो ऑनलाइन फार्म भरने का सिस्टम अजीबो गरीब लोग भी अपना गुजारा चला सके हमारे मुख्यमंत्री श्री अशोक गहलोत जी आपको भी कोई गरीबों के लिए ऐसा ही आदेश निकालना चाहिए कोई ऐसा ऐप होना चाहिए जिससे गरीब ऑनलाइन आधार कार्ड से पैसा ले सके अपने आधार डालो फिर सरकार चेक करके उनके अकाउंट में पैसे डाल सकें जय हिंद जय भारत

    ReplyDelete
  4. Sir bank to mana kar rha hai koi v purana khata Jan dhan me convert nhi hoga bank me kh rhe hai esa koi form nhi hai kh rhe hai sir form kha se lai

    ReplyDelete
  5. Old account main paisa transfer Karen

    ReplyDelete